माउंटबेटन योजना क्या थी? विस्तारपूर्वक वर्णन करें

माउंटबेटन योजना

माउंटबेटन की योजना 24 मार्च 1947 ई . को माउंटबेटन ने भारत के वायसराय का पद ग्रहण किया. माउंटबेटन को ब्रिटिश शक्ति को भारत से समेटने के कार्य के लिए …

Read more

कैबिनेट मिशन योजना तथा उसके महत्व का वर्णन कीजिए

कैबिनेट मिशन योजना तथा उसके महत्व

कैबिनेट मिशन योजना 1946 ई. में इंग्लैंड में महत्वपूर्ण राजनीतिक परिवर्तन हुए. इसका प्रभाव भारत पर भी पड़ना स्वभाविक था. चर्चिल के स्थान पर मजदूर दल के नेता एटली इंग्लैंड …

Read more

वेवेल योजना क्या थी? इसकी असफलता के कारणों पर प्रकाश डालिए

वेवेल योजना

वेवेल योजना 1943 ई. में लॉर्ड वेवेल भारत के नए वायसराय बने. उन्होंने भारत की स्थिति को सुधारने के लिए मई 1944 ई. में महात्मा गांधी को रिहा करने का …

Read more

भारतीय रियासतों के भारत में विलय में क्या समस्याएं थी? सरदार पटेल ने इनका विलय कैसे किया?

भारतीय रियासतों के भारत में विलय

भारतीय रियासतों के भारत में विलय भारत के स्वतंत्र होने के बाद आजाद भारत में कुल 562 रियासतें थी. 1858 ई. से जिन राज्यों की अंग्रेजी सरकार से संबंध थे …

Read more

बोल्शेविक क्रांति से आप क्या समझते हैं? इसके कारणों और परिणामों का वर्णन करें

बोल्शेविक क्रांति से आप क्या समझते हैं?

बोल्शेविक क्रांति बोलशेविक क्रांति को अक्टूबर 1917 की क्रांति के नाम से भी जाना जाता है. इस क्रांति की सबसे दिलचस्प बात यह है कि यह क्रांति बिना किसी खून …

Read more

स्टालिन की विदेश नीति का वर्णन कीजिए

स्टालिन की विदेश नीति

स्टालिन की विदेश नीति 1917 ई. में रूस में क्रांति हुई. इस क्रांति के परिणामस्वरुप रूस से जारशाही तानाशाही शासन व्यवस्था का अंत हुआ और बोल्शेविक सरकार की स्थापना हुई. …

Read more

1857 ई. के विद्रोह के कारणों का वर्णन कीजिए

1857 के विद्रोह के कारणों

1857 ई. के विद्रोह एंग्लो-इंडियन इतिहासकारों ने सैनिक असंतोषों तथा चर्बी वाले कारतूसों को ही 1857 ई. के विद्रोह का सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण कारण बताया था. लेकिन आधुनिक भारतीय …

Read more

प्लासी युद्ध का महत्व क्या है?

प्लासी युद्ध का महत्व

प्लासी युद्ध का महत्व प्लासी युद्ध का कोई सामरिक महत्व नहीं था. दरअसल यह एक छोटी सी झड़प थी. जिसमें कंपनी के कुल 65 व्यक्ति तथा नवाब के 5000 लोग …

Read more

18 वीं शताब्दी में भारत की सामाजिक और आर्थिक स्थिति क्या थी?

18 वीं शताब्दी में भारत की सामाजिक और आर्थिक स्थिति

18 वीं शताब्दी में भारत की सामाजिक और आर्थिक स्थिति 18 वीं शताब्दी में भारत में राजनीतिक व्यवस्था बहुत ही खराब थी. राजनीतिक अव्यवस्था होते भी होते हुए भी भारत …

Read more

मुग़ल साम्राज्य के पतन के कारणों का वर्णन करें

मुग़ल साम्राज्य के पतन के कारण

मुग़ल साम्राज्य के पतन के कारण 1. औरंगजेब का व्यक्तित्व मुगल साम्राज्य का अधिकतम विस्तार औरंगजेब के काल में हुआ था, परंतु मुगल साम्राज्य की सीमाओं की हालत ऐसी हो …

Read more

Telegram
WhatsApp
FbMessenger
error: Please don\'t copy the content.