मंचूरिया संकट क्या है?

मंचूरिया संकट

मंचूरिया चीन का एक प्रांत था. यह प्रांत प्राकृतिक संसाधनों से भरा हुआ था. इस क्षेत्र पर रूस और जापान दोनों की निगाहें थी. च्यांग काई शेक ने अपने शासनकाल में मंचूरिया से रूस के प्रभाव को कम करने के लिए अपनी नीतियों में बदलाव किया. इससे रुष्ट होकर चीन ने मंचूरिया पर आक्रमण कर दिया और चीनी सरकार को रूसी-चीनी संधि (22 दिसंबर 1929 ई.) करने पर बाध्य किया. इस संधि के बाद मंचूरिया पर रूस का प्रभाव तेजी से बढ़ने लगा. मंचूरिया पर रूस के बढ़ते प्रभाव को देखकर जापान समझ गया कि यदि समय रहते कुछ न किया जाए तो मंचूरिया पर हमेशा के रूस का अधिपत्य हो जाएगा. अतः वह मंचूरिया पर हमले करने का बहाना खोजने लगा. 

मंचूरिया संकट

इसी बीच जून 1931 ई. को नाकामुरा नामक जापानी कप्तान की कुछ चीनियों ने हत्या कर दी. जापान ने इस हत्या के लिए क्षतिपूर्ति की मांग की और अपराधियों को दंड देने के लिए चीनी अधिकारियों को कहा. चीन ने जापान की मांग यह कहकर ठुकरा दिया कि नाकामुरा मंचूरिया में जासूसी कर रहा था. इससे जापान में घोर प्रतिक्रिया हुई और जापानी सैन्यवादियों ने युद्ध करने की मांग करने लगे. अतः 18 सितंबर 1931 ई. को जापान ने मंचूरिया पर आक्रमण कर दिया. जापानी सैनिकों ने मुकदेन में शिविरों में सो रहे लगभग 10 हजार चीनी सैनिकों को बंधक बना लिया. इस प्रकार जापान ने नवंबर के मध्य तक उत्तरी मंचूरिया पर पर अपना अधिकार कर लिया था. 18 फरवरी 1932 ई. को जापान ने मंचूरिया का नाम बदलकर मंचूकाओ रख दिया और वहां पर अपनी कठपुतली सरकार कायम कर दी. मंचूरिया पर अधिकार करने के लिए जापान के इस कारवाई को ही मंचूरिया संकट कहा जाता है.

इन्हें भी पढ़ें:

Note:- इतिहास से सम्बंधित प्रश्नों के उत्तर नहीं मिल रहे हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें. आपके प्रश्नों के उत्तर यथासंभव उपलब्ध कराने की कोशिश की जाएगी.

अगर आपको हमारे वेबसाइट से कोई फायदा पहुँच रहा हो तो कृपया कमेंट और अपने दोस्तों को शेयर करके हमारा हौसला बढ़ाएं ताकि हम और अधिक आपके लिए काम कर सकें.  

धन्यवाद.

Leave a Comment

Telegram
WhatsApp
FbMessenger
error: Please don\'t copy the content.