अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारणों का वर्णन करें

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

1. अमेरिका को शक्तिहीन समझना

अंग्रेज अमेरिका की शक्ति का सही अनुमान नहीं कर पाए. साथ ही वे अपनी शक्ति पर जरूरत से ज्यादा भरोसा करते थे. जनरल गेज का अनुमान था कि मात्र 4 ब्रिटिश रेजीमेंट ही अमेरिका पर विजय प्राप्त करने के लिए पर्याप्त हैं. वे अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम को मात्र एक छोटा-मोटा विद्रोह समझ बैठे थे और उन्हें लगा कि ऐसी साधारण विद्रोह पर विजय पाना उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं है. यही कारण वे प्रयाप्त तैयारी किए बगैर अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम को दबाने के लिए अपनी सेना भेज दी थी. यही उनकी बहुत बड़ी भूल साबित हुई.

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

2. इंग्लैंड से अमेरिका की दूरी

अमेरिका इंग्लैंड से काफी दूर में स्थित था. यही कारण है इंग्लैंड को अपनी सेना के लिए युद्ध सामग्री तथा सेना भेजने में काफी कठिनाई होती थी और समय भी बहुत लगता था. जबकि अमेरिका वासी अपने ही देश में लड़ रहे थे. अत: उन्हें देश के अंदर में ही तुरंत सहायता और जरूरत की वस्तुएं मिल जाती थी. यही कारण है युद्ध की स्थिति में इंग्लैंड के सैनिक सही समय पर खाद्य सामग्री और युद्ध सामग्री न मिलने के कारण कमजोर पर चले गए.

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

3. यातायात की सुविधा का अभाव

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम एक हजार मील लंबे-चौड़े क्षेत्र में फैला हुआ था. इस क्षेत्र में काफी जंगल थे. बहुत से बस्तियां इन्हीं जंगलों में बसे हुए थे. इनके बीच सड़कों तथा यातायात के अन्य साधनों का भी अभाव था. यह बस्ती वाले इन जंगलों के रास्तों से अच्छी तरह परिचित थे, परंतु अंग्रेजों को जंगल के रास्तों का कोई जानकारी नहीं थी. यही कारण संघर्ष की स्थिति में जब अंग्रेज किसी स्थान पर घिर जाते तो उनकी सूचना उनके साथी सैनिकों को आसानी से मिल नहीं पाती थी. कभी-कभी सूचना मिलने पर भी सड़कों के अभाव के कारण समय पर उनको सैन्य मदद नहीं मिल पाती थी. ऐसी स्थिति में अंग्रेजों को विद्रोह को दबाने में काफी कठिनाई होने लगी.

4. अयोग्य सेनापति

इंग्लैंड का तत्कालीन युद्ध मंत्री जर्मेन एक अयोग्य मंत्री था. उसे इस बात की कोई चिंता नहीं थी कि अंग्रेजों की सेना अमेरिका में किस स्थिति में है. उसे तो अमेरिका से आई डाक खोलने कभी फुर्सत नहीं होता था. उसने पिक दि एल्डर की योजना पर भी कार्य नहीं किया. यही कारण है फ्रांस का बेड़ा अमेरिका पहुंच गया और अमेरिकियों को सही समय पर सैन्य सहायता प्रदान की. इसका परिणाम ये हुआ कि ब्रिटिश सेनापति कार्नवालिस को हथियार डालना पड़ गया.

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

5. जार्ज तृतीय की अयोग्यता

इंग्लैंड का तत्कालीन प्रधानमंत्री जार्ज तृतीय अत्यंत हठी किस्म का व्यक्ति था. वह किसी के परामर्श को स्वीकार नहीं करता था. उसने अपने मंत्रियों को भी अपने हाथों की कठपुतली बना रखा था. मंत्रियों में भी आपसी द्वेष की भावना थी. जार्ज तृतीय इतना स्वार्थी थे कि उसे अपने देश की तनिक भी चिंता नहीं थी. उन्होंने अपने योग्य सेनापति क्लेरटाउन को हटाकर बरगोयने को सेनापति नियुक्ति किया जो कि इंग्लैंड के लिए बहुत बड़ी भूल साबित हुई. राजा का व्यक्तिगत शासन भी युद्ध में पराजित होने का मुख्य कारण था. वॉर्नर-मार्टिन के अनुसार जार्ज तृतीय के राज्याभिषेक के समय बस्तियाँ परिपक्व हो चुकी थी, किंतु मातृ देश (इंग्लैंड) यह समझ नहीं सका और संभवत: यही कारण है जिसकी वजह से इतनी समस्याएं उत्पन्न हुई.

6. जार्ज तृतीय पर ब्रिटिश जनता का अविश्वास

जार्ज तृतीय के शासनकाल में इंग्लैण्ड की जनता उनसे नाखुश थी. उसके शासनकाल में देश में एकता का आभाव था. इंग्लैंड की आबादी का एक हिस्सा अमेरिका को स्वतंत्रता देने के पक्ष में थी. लार्ड चैथम और बर्क ने जार्ज तृतीय को इस सम्बन्ध में सलाह देने की कोशिश की लेकिन जार्ज तृतीय ने उन दोनों की बातों की तनिक भी परवाह नहीं की. अत: इंग्लैंड की जनता का अपने शासक पर कोई भरोसा नहीं रहा.

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

7. विदेशी शक्तियों का विरोध 

जब इंग्लैंड और अमेरिका के बीच जब युद्ध चल रहा था, उस समय इंग्लैंड के पुराने शत्रु फ्रांस और स्पेन ने सप्तवर्षीय युद्ध में मिली हार का बदला लेने के लिए इंग्लैंड के खिलाफ युद्ध की घोषणा का दी. इन देशों ने अमेरिका संग्राम के लिए अमेरिकियों को अपार आर्थिक और सैन्य सहायता प्रदान की. अत: यूरोपीय राष्ट्रों के द्वारा इंग्लैंड के खिलाफ अमेरिका की मदद करना भी इंग्लैंड के हार का एक प्रमुख कारण थी. 

8. इंग्लैंड की शक्ति का बँट जाना  

इस समय इंग्लैंड का उपनिवेश विश्व के बहुत से देशों पर फैला हुआ था. इंग्लैंड ने अपनी सेना को हर उपनिवेशों जैसे कि आयरलैंड, भारत और यूरोप के कई अन्य देशों में रखा हुआ था. लगभग इन सभी देशों में इंग्लैंड की उपनिवेशों के साथ कुछ न कुछ समस्याएँ थी. अत: इंग्लैंड अपनी सेना को इन स्थानों से हटा भी नहीं सकता था. यही कारण है कि इंग्लैंड अपनी पूरी सैन्य क्षमता का उपयोग नहीं कर पाया.

अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के पराजय के कारण

9. जार्ज वाशिंगटन का कुशल नेतृत्व 

अंग्रेजों के हार के मुख्य कारण जॉर्ज वाशिंगटन का कुशल नेतृत्व था. उसने अपने कठिन परिस्थितियों में भी हौसला नहीं छोड़ा. उसने अपने हारती सेना का भी मनोबल बढ़ाया और लगातार देश की स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों से युद्ध करता रहा. उसने अपने देशवासियों के मन में स्वतंत्रता की भावना प्रज्वलित कर दी थी. उसके अदम्य साहस और विश्वास के कारण अंग्रेजों की हार और अमेरिका वासियों की विजय हुई. इतिहासकार रेम्जे म्रयोर का कहना है, “वाशिंगटन के नेतृत्व में उपनिवेश वासियों के मन विश्वास और साहस को उत्पन्न कर दिया, जिससे उन्हें इस महान और कठिन संघर्ष के अंत में विजय प्राप्त हुई.”

इन्हें भी पढ़ें:

Note:- इतिहास से सम्बंधित प्रश्नों के उत्तर नहीं मिल रहे हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें. आपके प्रश्नों के उत्तर यथासंभव उपलब्ध कराने की कोशिश की जाएगी.

अगर आपको हमारे वेबसाइट से कोई फायदा पहुँच रहा हो तो कृपया कमेंट और अपने दोस्तों को शेयर करके हमारा हौसला बढ़ाएं ताकि हम और अधिक आपके लिए काम कर सकें.  

धन्यवाद.

Leave a Comment

Telegram
WhatsApp
FbMessenger
error: Please don\'t copy the content.