नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्यों का वर्णन कीजिए

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

1. वार्साय की संधि का विरोध 

नाजीवाद का प्रमुख उद्देश्य वार्साय की संधि का विरोध करना था. हिटलर का मानना था कि इस संधि को बलपूर्वक जर्मनी पर थोपा गया है. अत: जर्मनी इस संधि को नहीं मानेगा. हिटलर ने अपनी पुस्तक मेरा संघर्ष में लिखा है कि जर्मनी की सीमाएं अकस्मात् हुई घटनाओं का परिणाम है. उसके अनुसार राज्य की सीमाओं का निर्धारण व्यक्तियों की इच्छाओं पर निर्भर करता है. उनको निश्चित करना भी व्यक्तियों का ही काम है. व्यक्तियों के द्वारा ही इसे बनाया अथवा बदला जा सकता है. वार्साय की संधि के कारण जर्मनी की सीमाएं निर्धारित की गई थी. इस कारण जर्मनी की आर्थिक स्थिति काफी ख़राब हो चुकी थी. यही कारण हिटलर वर्साय की संधि का घोर विरोध करता था. वह जर्मनी को फिर से आर्थिक रूप से सुदृढ़ करना चाहता था.  

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

2. एक व्यक्ति के शासन की स्थापना 

वार्साय की संधि के द्वारा जर्मनी में गणतंत्र शासन की स्थापना कर दी गई थी. हिटलर गणतंत्रात्मक शासन का घोर विरोधी था. उसका मानना था कि एक ही व्यक्ति के द्वारा शासन करने को ही वास्तविक गणतंत्र कहा जाता है. जबकि वार्साय की संधि के द्वारा स्थापित गणतंत्र शासन नाजियों के विचार के बिलकुल विपरीत था. नाजियों की इच्छा थी कि जर्मनी पर केवल एक ही व्यक्ति के द्वारा शासन किया जाना चाहिए. यही कारण है कि नाजियों के द्वारा वार्साय की संधि  का घोर विरोध किया जाता था.

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

3. वृहत्तर जर्मनी का निर्माण

हिटलर के नाजी दल का मुख्य उद्देश्य जर्मनी को एक वृहत्तर राज्य के रूप में स्थापित करना था. अत: उनका उद्देय न सिर्फ वार्साय की संधि के द्वारा खोये प्रदेशों को वापस हासिल करना था, बल्कि जर्मनी के छोटे-छोटे सीमावर्ती राज्यों को भी अपने राज्य में मिलाकर वृहत जर्मनी का निर्माण करना था. हिटलर जर्मनी को सत्तात्मक राष्ट्र बनाना चाहता था. वह जर्मनी को पूरे यूरोप का एक सर्वश्रेष्ठ और शक्तिसम्पन्न राष्ट्र बनाना चाहता था.    

4. जर्मनी की निशस्त्रीकरण का विरोध 

वार्साय की संधि के तहत जर्मनी पर ये शर्त थोप दी गई थी कि वह कभी सेना नहीं रख सकता है और न हथियारों को निर्माण कर सकता है. ये शर्त केवल जर्मनी के लिए थी. अन्य यूरोपीय देश अपनी सेना रख सकते थे और हथियारों का निर्माण कर सकते थे. जर्मनी इसी शर्त का विरोध करता था. वह चाहता था कि ये शर्त सभी यूरोपीय देशों पर लागू हो या उन्हें भी हथियार बनाने और सेना रखने का अधिकार मिले, लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई. यही कारण जर्मनी निशस्त्रीकरण का विरोध करता था.  

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

5. यहूदियों को जर्मनी से बाहर निकलना 

हिटलर का एक और सबसे बड़ा उद्देश्य सभी यहूदियों को जर्मनी से बाहर निकलना था. उसके इस उदेश्य के पीछे का कारण यह है कि उसे लगता था कि प्रथम विश्वयुद्ध में जर्मनी कि करारी हार का मुख्य कारण यहूदी जाति ही थी. अत: वह यहूदियों से घोर नफरत करता था. यही कारण है कि हिटलर के सत्ता में आने के बाद उसने यहूदियों पर भीषण अत्याचार किए. लाखों यहूदियों को कैदखाने में डालकर बेइंतहा जुल्म ढाया और उनको मार डाला. हिटलर के आतंक से लाखों यहूदी जर्मनी छोड़कर भाग गए.  

6. सामाजिक उद्देश्य 

हिटलर का मानना था कि जर्मनी के हर व्यक्ति को उसकी योग्यता के आधार पर रोजगार मिलना चाहिए. वह चाहता था कि जर्मनी के हर समाज के नागरिकों का रहन-सहन का स्तर ऊँचा हो. अत: हिटलर ने इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए अनेक कदम उठाना शुरू कर दिए थे.

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

7. आर्थिक उदेश्य 

नाजियों का मानना है कि युद्ध के दौरान पूंजीपतियों के द्वारा कमाए गए धन को नष्ट कर देना चाहिए. इसके अलावा देश के समस्त कारखानों, मिलों तथा बड़ी-बड़ी दुकानों का राष्ट्रीयकरण कर देना चाहिए. किसानों की उन्नत्ति के लिए कृषि को प्रोत्साहन देना चाहिए. वृद्ध लोगों को पेंशन मिलना चाहिए. जर्मनी के प्रत्येक नागरिक को उसकी योग्यता के अनुसार रोजगार मिलना चाहिए और प्रत्येक वर्ग के लोगों का रहन-सहन का स्तर ऊँचा हो. 

नाजीवाद के प्रमुख उद्देश्य

8. धार्मिक उदेश्य 

हिटलर का मानना था कि प्रत्येक व्यक्ति के लिए धार्मिक स्वतंत्रता हो, लेकिन यदि यही धर्म देश की प्रगति के लिए बाधक बन रहा हो तो उसे समाप्त कर दिया जाना चाहिए.

इन्हें भी पढ़ें:

  1. हिटलर की गृह एवं विदेश नीति का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिए
  2. हिटलर की विदेश नीति का वर्णन करें
  3. हिटलर की गृह नीति का वर्णन कीजिए

Note:- इतिहास से सम्बंधित प्रश्नों के उत्तर नहीं मिल रहे हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें. आपके प्रश्नों के उत्तर यथासंभव उपलब्ध कराने की कोशिश की जाएगी.

अगर आपको हमारे वेबसाइट से कोई फायदा पहुँच रहा हो तो कृपया कमेंट और अपने दोस्तों को शेयर करके हमारा हौसला बढ़ाएं ताकि हम और अधिक आपके लिए काम कर सकें.  

धन्यवाद.

Leave a Comment

Telegram
WhatsApp
FbMessenger
error: Please don\'t copy the content.